पर्वत यात्रा

ऑडियो बूम पर सुनें

यूट्यूब पर सुनें

प्रात:काल मुं. गुलाबाज़ खां ने नमाज़ पढ़ी, कपड़े पहने और महरी से किराये की गाड़ी लाने को कहा।
शीरी बेगम ने पूछा—आज सबेरे-सबेरे कहां जाने का इरादा है?
गुल—ज़रा छोटे साहब को सलाम करने जाना है।
शीरीं—तो पैदल क्यों नही चले जाते? कौन बड़ी दूर है।
गुल—जो बात तुम्हारी समझ मे न आये, उसमें ज़बान न खोला करो।
शीरीं—पूछती तो हूं पैदल चले जाने मे क्या हरज है? गाड़ीवाला एक रूपये से कम न लेगा।
गुल—(हंसकर) हुक़्क़ाम किराया नही देते। उसकी हिम्मत है कि मुझसे किराया मांगे! चालान करवा दूं।
शीरीं—तुम तो हाकिम भी नही हो, तुम्हें वह क्यों ले जाने लगा!
गुल—हाकिम कैसे नही हूं? हाकिम के क्या सींग-पूंछ होती है, जो मेरे नही है? हाकिम का दोस्त हाकिम से कम रोब नही रखता। अहमक नही हूं कि सौ काम छोड़कर हुक़्क़ाम की सलामी बजाया करता हूं। यही इसी की बरकत है कि पुलिस माल दीवानी के अहलकार मुझे झुक-झुककर सलाम करते है, थानेदार ने कल जो सौगात भेजी थी, वह किसलिए? मै उनका दामाद तो नही हूं। सब मुझसे डरते है।
इतने मे महरी एक तांगा लाई। खां साहब ने फ़ौरन साफ़ा बांधा और चले। शीरी ने कहा—अरे, तो पान तो खाते जाओं!
गुल—हां, लाओं हाथ मे मेहदीं भी लगा दो। अरी नेकबख्त, हुक़्क़ाम के सामने पान खाकर जाना बेअदबी है।
शीरीं—आओगे कब तक? ख़ाना तो यहीं खाओगें!
गुल—तुम मेरे खाने की फ़िक्र न करना, शायद कुअंर साहब के यहां चला जाऊँ। कोई मुझे पूछे तो कहला देना, बड़े साहब से मिलने गये है।
खां साहब आकर तांगे पर बैठे।
तांगेवाले ने पूछा—हुज़ूर, कहां चलू?
गुल—छोटे साहब के बंगले पर। सरकारी काम से जाना है।
तांगे—हुज़ूर को वहां कितनी देर लगेगी?
गुल—यह मै कैसे बता दू, यह तो हो नही सकता कि साहब मुझसे बार-बार बैठने को कहे और मै उठकर चला आऊं। सरकारी काम है, न जाने कितनी देर लगे। बड़े अच्छे आदमी है बचारे। मजाल नही कि जो बात कह दूं, उससे इनकार कर दे। आदमी को गरूर न करना चाहिए। ग़ुरूर करना शैतान का काम है। मगर कई थानेदारों से जवाब तलब कर चुका हूं। जिसको देखा कि रिआया को ईज़ा पहुँचाता है, उसके पीछे पड़ जाता हूं।
तांगे—हुज़ूर पुलिस बड़ा अंधेर करती है। जब देखो बेगार कभी आधी रात को बुला भेजा, कभी फजिर को, मरे जाते है हुज़ूर। उस पर हर मोड़ पर सिपाहियों को पैसे चाहिए। न दे, तो झूठा चालान कर दें।
गुल—सब जानता हूं जी, अपनी झोपड़ी मे बैठा सारी दुनिया की सेर किया करता हूं। वहीं बैठे-बैठे बदमाशों की ख़बर लिया करता हूं। देखो, तांगे को बंगले के भीतर न ले जाना। बाहर फाटक पर रोक देना।
तांगे—अच्छा हुज़ूर। अच्छा, अब देखिये वह सिपाही मोड़ पर खड़ा है। पैसे के लिए हाथ फैलायेगा। न दूं तो ललकारेगा। मगर आज क़सम क़ुरान की, टका-सा जवाब दे दूंगा। हुज़ूर बैठै है तो क्या कर सकता है।
गुल—नही, नही, ज़रा-ज़रा सी बात पर मै इन छोटे आदमियों से नही लड़ता। पैसे दे देना। मै तो पीछे से बचा की ख़बर लूंगा। मुअत्तल न करा दूं तो सही। दूबदू गाली-गलौज करना, इन छोटे आदमियों के मुंह लगना मेरी आदत नही।
तांगेवाले को भी यह बात पसन्द आई। मोड़ पर उसने सिपाही को पैसे दे दिए। तांगा साहब के बंगले पर पहुचां। खां साहब उतरे, और जिस तरह कोई शिकारी पैर दबा-दबाकर चौकन्नी आंखो से देखता हुआ चलता है, उसी तरह आप बंगले के बरामदे मे जाकर खड़े हो गए। बैरा बरामदे मे बैठा था। आपने उसे देखते ही सलाम किया।
बैरा—हुज़ूर तो अंधेर करते है। सलाम हमको करना चाहिए और आप पहले ही हाथ उठा देते है।
गुल—अजी इन बातों मे क्या रक्खा है। ख़ुदा की निगाह मे सब इन्सान बराबर है।
बैरा—हुज़ूर को अल्लाह सलामत रक्खें, क्या बात कही है। हक़ तो यह है पर आदमी अपने को कितना भूल जाता है! यहां तो छोटे-छोटे अमले भी इंतजार करते रहते है कि यह हाथ उठावें। साहब को इत्तला कर दूं?
गुल—आराम मे हो तो रहने दो, अभी ऐसी कोई जल्दी नहीं।
बैरा—जी नही हुज़ूर हाज़िरी पर से तो कभी के उठ चुके, काग़ज़-वाग़ज़ पढ़ते होगें।
गुल—अब इसका तुम्हे अख़्तियार है, जैसा मौक़ा हो वैसा करो। मौक़ा-महल पहचानना तुम्ही लोगो का काम है। क्या हुआ, तुम्हारी लड़की तो ख़ैरियत से है न?
बैरा—हां हुज़ूर, अब बहुत मज़े मे हे। जब से हुज़ूर ने उसके घरवालों को बुलाकर डांट दिया है, तब से किसी ने चूं भी नही किया। लड़की हुज़ूर की जान-माल को दुआ देती है।
बैरे ने साहब को खां साहब की इत्तला की, और एक क्षण मे खां साहब जूते उतार कर साहब के सामने जा खड़े हुए और सलाम करके फर्श पर बैठ गए। साहब का नाम काटन था।
काटन—ओ!ओ! यह आप क्या करता है, कुर्सी पर बैठिए, कुर्सी पर बैठिए। नही, नहीं आप हमारा दोस्त है।
खां—हुज़ूर चाहे मेरे को आफ़ताब बना दें, पर मै तो अपनी हक़ीक़त समझता हूं। बंदा उन लोगों मे नही है जो हुज़ूर के करम से चार हरफ़ पढ़कर ज़मीन पर पांव नही रखते और हुज़ूर लोगों की बराबरी करने लगते है।
काटन—खां साहब आप बहुत अच्छे आदमी हैं। हम आज के पांचवे दिन नैनीताल जा रहा है। वहां से लौटकर आपसे मुलाक़ात करेगा। आप तो कई बार नैनीताल गया होगा। अब तो सब रईस लोग वहां जाता है।
खां साहब नैनीताल क्या, बरेली तक भी न गये थे, पर इस समय कैसे कह देते कि मै वहां कभी नहीं गया। साहब की नज़रों से गिर न जाते! साहब समझते कि यह रईस नही, कोई चरकटा है। बोले—हां हुज़ूर कई बार हो आया हूं।
काटन—आप कई बार हो आया है? हम तो पहली दफा जाता है। सुना बहुत अच्छा शहर है।?
खां—बहुत बड़ा शहर है हुज़ूर, मगर कुछ ऐसा बड़ा भी नहीं है।
काटन—आप कहां ठहरता? वहां होटलो मे तो बहुत पैसा लगता है।
खां—मेरी हुज़ूर न पूछें, कभी कहीं ठहर गया, कभी कहीं ठहर गया। हुज़ूर के अकबाल से सभी जगह दोस्त है।
काटन—आप वहां किसी के नाम चिट्ठी दे सकता है कि मेरे ठहरने का बंदोबस्त कर दें। हम किफ़ायत से काम करना चाहता है। आप तो हर साल जाता है, हमारे साथ क्यों नहीं चलता।
खां साहब बड़ी मुश्किल में फंसे। अब बचाव का कोई उपाय न था। कहना पड़ा—जैसा हुज़ूर के साथ ही चला चलूंगा। मगर मुझे अभी ज़रा देर है हुज़ूर।
काटन—ओ कुछ परवाह नहीं, हम आपके लिए एक हफ़्ता ठहर सकता है। अच्छा सलाम। आज ही आप अपने दोस्त को जगह का इन्तज़ाम करने को लिख दें। आज के सातवें दिन हम और आप साथ चलेगा। हम आपको रेलवे स्टेशन पर मिलेगा।
खां साहब ने सलाम किया, और बाहर निकले। तांगे वाले से कहा—कुंअर शमशेर सिंह की कोठी पर चलो।

कुंअर शमशेर सिंह ख़ानदानी रईस थे। उन्हें अभी तक अंग्रेज़ी रहन-सहन की हवा न लगी थी। दस बजे दिन तक सोना, फिर दोस्तों और मुसाहिबों के साथ गपशप करना, दो बजे ख़ाना खाकर फिर सोना, शाम को चौक की हवा ख़ाना और घर आकर बारह-एक बजे तक किसी परी का मुज़रा देखना, यही उनकी दिनचर्या थी। दुनिया में क्या होता है, इसकी उन्हें कुछ ख़बर न होती थी। या हुई भी तो सुनी-सुनाई। खां साहब उनके दोस्तों में थे।
जिस वक़्त खां साहब कोठी में पहुंचे दस बज गये थे, कुंअर साहब बाहर निकल आये थे, मित्रगण जमा थे। खां साहब को देखते ही कुंअर साहब ने पूछा—कहिए खां साहब, किधर से?
खां साहब—ज़रा साहब से मिलने गया था। कई दिन बुला-बुला भेजा, मगर फुर्सत ही न मिलती थीं। आज उनका आदमी जबर्दस्ती खींच ले गया। क्या करता, जाना ही पड़ा। कहां तक बेरूखी करूं।
कुंअर—यार, तुम न जाने अफसरों पर क्या जादू कर देते हो कि जो आता है तुम्हारा दम भरने लगता है। मुझे वह मन्त्र क्यों नहीं सिखा देते।
खां—मुझे ख़ुद ही नहीं मालूम कि क्यों हुक़्क़ाम मुझ पर इतने मेहरबान रहते हैं। आपकों यक़ीन न आवेगा, मेरी आवाज़़ सुनते ही कमरे के दरवाज़े पर आकर खड़े हो गये और ले जाकर अपनी ख़ास कुर्सी पर बैठा दिया।
कुंअर—अपनी ख़ास कुर्सी पर?
खां—हां साहब, हैरत में आ गया, मगर बैठना ही पड़ा। फिर सिगार मंगवाया, इलाइची, मेवे, चाय सभी कुछ आ गए। यों कहिए कि खासी दावत हो गई। यह मेहमानदारी देखकर मैं दंग रह गया।
कुंअर—तो वह सब दोस्ती भी करना जानते हैं।
खां—अजी दूसरा क्या खा के दोस्ती करेगा। अब हद हो गई कि मुझे अपने साथ नैनीताल चलने को मजबूर किया।
कुंअर—सच!
खां—क़सम क़ुरान की। हैरान था कि क्या जबाब दूँ। मगर जब देखा कि किसी तरह नहीं मानते, तो वादा करना ही पड़ा। आज ही के दिन कूच है।
कुंअर—क्यों यार, मैं भी चला चलूं तो क्या हरज हैं?
खां—सुभानअल्लाह, इससे बढ़कर क्या बात होगी।
कुंअर—भई, लोग, तरह-तरह की बातें करते हैं, इससे जाते डर लगता हैं। आप तो हो आये होंगे?
खां—कई बार हो आया हूं। हां, इधर कई साल से नहीं गया।
कुंअर—क्यों साहब, पहाड़ों पर चढ़ते-चढ़ते दम फूल जाता होगा?
राधाकान्त व्यास बोले—धर्मावतार, चढ़ने को तो किसी तरह चढ़ भी जाइए पर पहाड़ों का पानी ऐसा ख़राब होता है कि एक बार लग गया तो प्राण ही लेकर छोड़ता है। बदरीनाथ की यात्रा करने जितने यात्री जाते हैं, उनमें बहुत कम जीते लौटते हैं और संग्रहणी तो प्राय: सभी को हो जाती हे।
कुंअर—हां, सूना तो हमने भी है कि पहाड़ों का पानी बहुत लगता है।
लाला सुखदयाल ने हामी भरी—गोसाई जी ने भी तो पहाड़ के पानी की निन्दा की है—
लागत अति पहाड़ का पानी।
बड़ दुख होत न जाई बख़ानी।।
खां—तो यह इतने अंग्रेज़ वहां क्यों जाते है साहब? ये लोग अपने वक़्त के लुकमान है। इनका कोई काम मसलहत से खाली नहीं होता? पहाड़ों की सैर से कोई फायदा न होता तो क्यो जातें, ज़रा यह तो साचिए।
व्यास—यही सोच-सोचकर तो हमारे रईस अपना सर्वनाश कर रहे है। उनकी देखी-देखी धन का नाश, धर्म का नाश, बल का नाश होता चला जाता है, फिर भी हमारी आंखें नहीं खुलतीं।
लाला—मेरे पिता जी एक बार किसी अंग्रेज़ के साथ पहाड़ पर गये। वहां से लौटे तो मुझे नसीहत की कि ख़बरदार, कभी पहाड़ पर न जाना। आख़िर कोई बात देखी होगी, जभी तो यह नसीहत की।
वाजिद—हुज़ूर, खां साहब जाते हैं जाने दीजिए, आपको मैं जाने की सलाह न दूंगा। ज़रा सोचिए, कोसों की चढ़ाई, फिर रास्ता इतना ख़तरनाक कि ख़ुदा की पनाह! ज़रा-सी पगड़डी और दोनों तरफ़ कोसों का खड्ड। नीचे देखा ओर थरथरा कर आदमी गिर पड़ा और जो कहीं पत्थरों में आग लग गई, तो चलिए वारा-न्यारा हो गया। जल-भुन के कबाब हो गये।
खां—और जो लाखों आदमी पहाड़ पर रहते हैं?
वाजिद—उनकी और बात है भाई साहब।
खां—और बात कैसी? क्या वे आदमी नहीं हैं?
वाजिद—लाखों आदमी दिन-भर हल जोतते हैं, फावड़े चलाते हैं, लकड़ी फाड़ते हैं, आप करेंगे? है आपमें इतनी दम? हुज़ूर उस चढ़ाई पर चढ़ सकते हैं?
खां—क्यों नहीं टट्टुओं पर जाएंगे।
वाजिद—टट्टुओं पर छ:कोस की चढ़ाई! होश की दवा कीजिए।
कुंअर—टट्टुओं पर! भई हमसे न जाया जायगा। कहीं टट्टू भड़के तो कहीं के न रहे।
लाला—गिरे तो हड्डियां तक न मिले!
व्यास—प्राण तक चूर-चूर हो जाय।
वाजिद—ख़ुदाबंद, एक ज़रा—सी ऊंचाई पर से आदमी देखता हैं, तो कांपने लगता है, न कि पहाड़ की चढ़ाई।
कुंअर—वहां सड़कों पर इधर-उधर ईंट या पत्थर की मुंडेर नहीं बनी हुई हैं?
वाजिद—ख़ुदाबंद, मंज़िलों के रास्तें में मुंडेर कैसी!
कुंअर—आदमी का काम तो नहीं है।
लाला—सुना वहां घेघा निकल आता है।
कुंअर—अरे भई यह बुरा रोग है। तब मै वहां जाने का नाम भी न लूंगा।
खां—आप लाल साहब से पूछें कि साहब लोग जो वहां रहते हैं, उनको घेघा क्यों नहीं हो जाता?
लाला—वह लोग ब्रांडी पीते है। हम और आप उनकी बराबरी कर सकते हैं भला। फिर उनका अकबाल!
वाजिद—मुझे तो यक़ीन नहीं आता कि खां साहब कभी नैनीताल गये हों। इस वक़्त डींग मार रहे है। क्यों साहब, आप कितने दिन वहां रहे?
खां—कोई चार बरस तक रहा था।
वाजिद—आप वहां किस मुहल्ले में रहते थे?
खां—(गड़बड़ा कर) जी—मैं।
वाजिद—अखिर आप चार बरस कहां रहे?
खां—देखिए याद आ जाय तो कहूं।
वाजिद—जाइए भी। नैनीताल की सूरत तक तो देखी नहीं, गप हांक दी कि वहां चार बरस तक रहे!
खां—अच्छा साहब, आप ही का कहना सही। मैं कभी नैनीताल नहीं गया। बस, अब तो आप ख़ुश हुए।
कुंअर—आख़िर आप क्यों नहीं बताते कि नैनीताल में आप कहां ठहरे थे।
वाजिद—कभी गए हों, तब न बताएं।
खां—कह तो दिया कि मैं नहीं गया, चलिए छुट्टी हुई। अब आप फरमाइए कुंअर साहब, आपको चलना है या नहीं? ये लोग जो कहते हैं सब ठीक है। वहां घेघा निकल आता है, वहां का पानी इतना ख़राब है कि ख़ाना बिल्कुल नहीं हजम होता, वहां हर रोज़ दस-पांच आदमी खड्ड में गिरा करते है। अब आप क्या फ़ैसला करते है? वहां जो मज़े है वह यहां ख्वाब में भी नहीं मिल सकते। जिन हुक़्क़ाम के दरवाज़े पर घंटों खड़े रहने पर भी मुलाक़ात नहीं होती, उनसे वहां चौबीसों घंटों का साथ रहेगा। मिसों के साथ झील में सैर करने का मज़ा अगर मिल सकता है तो वहीं। अजी सैकड़ों अंग्रेज़ों से दोस्ती हो जाएगी। तीन महीने वहां रहकर आप इतना नाम हासिल कर सकते हैं जितना यहां ज़िन्दगी-भर भी न होगा। बस, और क्या कहूं।
कुअंर—वहां बड़े-बड़े अंग्रेज़ों से मुलाक़ात हो जाएगी?
खां—जनाब, दावतों के मारे आपको दम मारने की मोहलत न मिलेगी।
कुंअर—जी तो चाहता है कि एक बार देख ही आएं।
खां—तो बस तैयारी कीजिए।
सभाजन ने जब देखा कि कुंअर साहब नैनीताल जाने के लिए तैयार हो गए तो सब के सब हां में हां मिलाने लगे।
व्यास—पर्वत-कंदराओं में कभी-कभी योगियों के दर्शन हो जाते है।
लाला—हां साहब, सुना है—दो-दो सौ साल के योगी वहां मिलते है। जिसकी ओर एक बार आंख उठाकर देख लिया, उसे चारों पदार्थ मिल गये।
वाजिद—मगर हुज़ूर चलें, तो इस ठाठ से चलें कि वहां के लोग भी कहें कि लखनऊ के कोई रईस आये है।
लाला—लक्ष्मी हथिनी को ज़रूर ले चलिए। वहां कभी किसी ने हाथी की सूरत काहे को देखी होगी। जब सरकार सवार होकर निकलेंगे और गंगा-जमुनी हौदा चमकेगा तो लोग दंग हो जाएंगे।
व्यास—एक डंका भी हो, तो क्या पूछना।
कुंअर—नहीं साहब, मेरी सलाह डंके की नहीं है। देश देखकर भेष बनाना चाहिए।
लाला—हां, डंके की सलाह तो मेरी भी नहीं है। पर हाथी के गले में घंटा ज़रूर हो।
खां—जब तक वहां किसी दोस्त को तार दे दीजिए कि एक पूरा बंगला ठीक कर रक्खे। छोटे साहब को भी उसी में ठहरा लेंगे।
कुंअर—वह हमारे साथ क्यों ठहरने लगे। अफसर है।
खां—उनको लाने का जिम्मा हमारा। खींच-खींचकर किसी न किसी तरह ले ही आऊंगा।
कुंअर—अगर उनके साथ ठहरने का मौक़ा मिले, तब तो मैं समझूं नैनीताल का जाना पारस हो गया।

एक हफ़्ता गुज़र गया। सफर की तैयारियां हो गई। प्रात:काल काटन साहब का ख़त आया कि आप हमारे यहां आएंगे या मुझसे स्टेशन पर मिलेंगे। कुंअर साहब ने जवाब लिखबाया कि आप इधर ही आ जाइएगा। स्टेशन का रास्ता इसी तरफ़ से है। मैं तैयार रहूंगा। यह ख़त लिखवा कर कुंअर साहब अन्दर गए तो देखा कि उनकी बड़ी साली रामेश्वरी देवी बैठी हुई है। उन्हें देखकर बोली—क्या आप सचमुच नैनीताल जा रहे है?
कुंअर—जी हां, आज रात की तैयारी है।
रामेश्वरी—अरे! आज ही रात को! यह नहीं हो सकता। कल बच्चा का मुंडन है। मैं एक न मानूंगी। आप ही न होगे तो लोग आकर क्या करेंगे।
कुंअर—तो आपने पहले ही क्यों न कहला दिया, पहले से मालूम होता तो मैं कल जाने का इरादा ही क्यों करता।
रामेश्वरी—तो इसमें लाचारी की कौन-सी बात हैं, कल न सही दो-चार दिन बाद सही।
कुंअर साहब की पत्नी सुशीला देवी बोली—हां, और क्या, दो-चार दिन बाद ही जाना, क्या साइत टली है?
कुंअर—आह! छोटे साहब से वादा कर चुका हूं, वह रात ही को मुझे लेने आएंगे। आख़िर वह अपने दिल में क्या कहेंगे?
रामेश्वरी—ऐसे-ऐसे वादे हुआ ही करते हैं। छोटे साहब के हाथ कुछ बिक तो गये नहीं हो।
कुंअर—मैं क्या कहूं कि कितना मजबूर हूं! बहुत लज्जित होना पड़ेगा।
रामेश्वरी—तो गया जो कुछ है वह छोटे साहब ही हैं, मैं कुछ नहीं!
कुंअर—आख़िर साहब से क्या कहूं, कौन बहाना करूं?
रामेश्वरी—कह दो कि हमारे भतीजे का मुंडन हैं, हम एक सप्ताह तक नहीं चल सकते। बस, छुट्टी हुई।
कुंअर—(हंसकर) कितना आसान कर दिया है आपने इस समस्या कों ऐसा हो सकता है कहीं। कहीं मुंह दिखाने लायक न रहूंगा।
सुशीला—क्यों, हो सकने को क्या हुआ? तुम उसके ग़ुलाम तो नहीं हो?
कुंअर—तुम लोग बाहर तो निकलती-बैठती नहीं हो, तुम्हें क्या मालूम कि अंग्रेज़ों के विचार कैसे होते है।
रामेश्वरी—अरे भगवान्! आख़िर उसके कोई लड़का-बाला है, या निगोड़ नाठा है। त्योहार और व्योहार हिन्दू-मुसलमान सबके यहां होते है।
कुंअर—भई हमसे कुछ करते-धरते नहीं बनता।
रामेश्वरी—हमने कह दिया, हम जाने नहीं देगे। अगर तुम चले गये तो मुझे बड़ा रंज होगा। तुम्हीं लोगों से तो महफ़िल की शोभा होगी और अपना कौन बैठा हुआ है।
कुंअर—अब तो साहब को लिख भेजने का भी मौक़ा नहीं है। वह दफ़्तर चले गये होंगे। मेरा सब असबाब बंध चुका है। नौकरों को पेशगी रूपया दे चुका कि चलने की तैयारी करें। अब कैसे रूक सकता हूँ!
रामेश्वरी—कुछ भी हो, जाने न पाओंगे।
सुशीला—दो-चार दिन बाद जाने में ऐसी कौन-सी बड़ी हानि हुई जाती हैं? वहां कौन लड्डू धरे हुए है?
कुंअर साहब बड़े धर्म-संकट में पड़े, अगर नहीं जाते तो छोटे साहब से झूठे पड़ते है। वह अपने दिल में कहेंगें कि अच्छे बेहुदे आदमी के साथ पाला पड़ा। अगर जाते है तो स्त्री से बिगाड़ होती हैं, साली मुंह फुलाती है। इसी चक्कर में पड़े हुए बाहर आये तो मियां वाजिद बोले—हुज़ूर इस वक़्त कुछ उदास मालूम होते है।
व्यास—मुद्रा तेज़हीन हो गई है।
कुंअर—भई, कुछ न पूछो, बड़े सकंट में हूं।
वाजिद—क्या हुआ हुज़ूर, कुछ फरमाइए तो?
कुंअर—यह भी एक विचित्र ही देश है।
व्यास—धर्मावतार, प्राचीन काल से यह ऋषियों की तपोभूमि है।
लाला—क्या कहना है, संसार में ऐसा देश दूसरा नहीं।
कुंअर—जी हां, आप जैसे गौखे और किस देश में होंगे। बुद्धि तो हम लोगों को भी छू नहीं गई।
वाजिद—हुज़ूर, अक़्ल के पीछे तो हम लोग लट्ठ लिए फिरते है।
व्यास—धर्मावतार, कुछ कहते नहीं बनता। बड़ी हीन दशा है।
कुंअर—नैनीताल जाने को तैयार था। अब बड़ी साली कहती है कि मेरे बच्चे का मुंडन है, मैं न जाने दूंगी। चले जाओंगे तो मुझे रंज होगा। बतलाइए, अब क्या करूं। ऐसी मूर्खता और कहां देखने में आएगी। पूछो मुंडन नाई करेगा, नाच-तमाशा देखने वालों की शहर में कमी नहीं, एक मैं न हूंगा न सही, मगर उनको कौन समझाये।
व्यास—दीनबन्धु, नारी-हठ तो लोक प्रसिद्ध ही है।
कुंअर—अब यह सोचिए कि छोटे साहब से क्या बहाना किया जायगा।
वाजिद—बड़ा नाज़ुक मुआमला आ पड़ा हुज़ूर।
लाला—हाकिम का नाराज़ हो जाना बुरा है।
वाजिद—हाकिम मिट्टी का भी हो, फिर भी हाकिम ही है।
कुंअर—मैं तो बड़ी मुसीबत में फंस गया।
लाला—हुज़ूर, अब बाहर न बैठे। मेरी तो यही सलाह है। जो कुछ सिर पर पड़ेगी, हम ओढ़ लेंगे।
वाजिद—अजी, पसीने की जगह ख़ून गिरा देंगे। नमक खाया है कि दिल्लगी है।
लाला—हां, मुझे भी यही मुनासिब मालूम होता है। आप लोग कह दीजिए, बीमार हो गए है।
अभी यही बातें हो रही थी कि ख़िदमतगार ने आकर हांफते हुए कहा—सरकार, कोऊ आया है, तौन सरकार का बुलावत है।
कुंअर—कौन है पूछा नहीं?
खिद.—कोऊ अंगरेज है सरकार, लाला-लाल मुंह हैं, घोड़ा पर सवार है।
कुंअर—कहीं छोटे साहब तो नहीं हैं, भई मैं तो भीतर जाता हूं। अब आबरू तुम्हारे हाथ है।
कुंअर साहब ने तो भीतर घुसकर दरवाजा बन्द कर लिया। वाजिदअली ने खिड़की से झांककर देखा, तो छोटे साहब खड़े थे। हाथ-पांव फूल गये। अब साहब के सामने कौन जाय? किसी की हिम्मत नहीं पड़ती। एक दूसरे को ठेल रहा है।
लाला—बढ़ जाओं वाजिदअली। देखो क्या कहते हैं?
वाजिद—आप ही क्यों नहीं चले जाते?
लाला—आदमी ही तो वह भी हैं, कुछ खा तो न जाएगा।
वाजिद—तो चले क्यों नहीं जाते।
काटन साहब दो-तीन मिनट खड़े रहे। अब यहाँ से कोई न निकला तो बिगड़कर बोले—यहां कौन आदमी है? कुंअर साहब से बोलो, काटन साहब खड़ा है।
मियां वाजिद बौखलाये हुए आगे बढ़े और हाथ बांधकर बोले—ख़ुदावंद, कुंअर साहब ने आज बहुत देर से ख़ाना खाया, तो तबियत कुछ भारी हो गई है। इस वक़्त आराम में हैं, बाहर नहीं आ सकते।
काटन—ओह! तुम यह क्या बोलता है? वह तो हमारे साथ नैनीताल जाने वाला था। उसने हमको ख़त लिखा था।
वाजिद—हां, हुज़ूर, जाने वाले तो थे, पर बीमार हो गये।
काटन—बहुत रंज हुआ।
वाजिद—हुज़ूर, इत्तिफ़ाक़ है।
काटन—हमको बहुत अफ़सोस है। कुंअर साहब से जाकर बोलो, हम उनको देखना मांगता है।
वाजिद—हुज़ूर, बाहर नहीं आ सकते।
काटन—कुछ परवाह नहीं, हम अन्दर जाकर देखेंगा।
कुंअर साहब दरवाज़े से चिमटे हुए काटन साहब की बातें सुन रहे थे। नीचे की सांस नीचे थी, ऊपर की ऊपर। काटन साहब को घोड़े से उतरकर दरवाज़े की तरफ़ आते देखा, तो गिरते-पड़ते दौड़े और सुशीला से बोले—दुष्ट मुझे देखने घर में आ रहा है। मैं चारपाई पर लेट जाता हूं, चटपट लिहाफ निकलवाओं और मुझे ओढ़ा दो। दस-पांच शीशियां लाकर इस गोलमेज पर रखवा दो।
इतने में वाजिदअली ने द्वार खटखटाकर कहा—महरी, दरवाजा खोल दो, साहब बहादुर कुंअर साहब को देखना चाहते है। सुशीला ने लिहाफ मांगा, पर गर्मी के दिन थे, जोड़े के कपड़े सन्दूकों में बन्द पड़ें थे। चटपट सन्दूक खोलकर दो-तीन मोटे-मोटे लिहाफ लाकर कुंअर साहब को ओढा दिये। फिर आलमारी से कई शीशियां और कई बोतल निकालकर मेज पर चुन दिये और महरी से कहा—जाकर किवाड़ खोल दो, मैं ऊपर चली जाती हूं।
काटन साहब ज्यों ही कमरे में पहुंचे, कुंअर साहब ने लिहाफ से मुंह निकला लिया और कराहते हुए बोले—बड़ा कष्ट है हुज़ूर। सारा शरीर फुंका जाता है।
काटन—आप दोपहर तक तो अच्छा था, खां साहब हमसे कहता था कि आप तैयार हैं, कहां दरद है?
कुंअर—हुज़ूर पेट में बहुंत दर्द हैं। बस, यही मालूम होता है कि दम निकल जायेगा।
काटन—हम जाकर सिविल सर्जन को भेज देता है। वह पेट का दर्द अभी अच्छा कर देगा। आप घबरायें नहीं, सिविल सर्जन हमारा दोस्त है।
काटन चला गया तो कुंअर साहब फिर बाहर आ बैठे। रोज़ा बख़्शाने गये थे, नमाज़ गले पड़ी। अब यह फ़िक्र पैदा हुई कि सिविल सर्जन को कैसे टाला जाय।
कुंअर—भई, यह तो नई बला गले पड़ी।
वाजिद—कोई जाकर खां साहब को बुला लाओं। कहना, अभी चलिए ऐसा न हो कि वह देर करें और सिविल सर्जन यहां सिर पर सवार हो जाय।
लाला—सिविल सर्जन की फीस भी बहुत होगी?
कुंअर—अजी तुम्हें फीस की पड़ी है, यहां जान आफ़त में है। अगर सौ दो सौ देकर गला छूट जाय तो अपने को भाग्यवान समझूं।
वाजिदअली ने फिटन तैयार कराई और खां साहब के घर पहुंचें देखा ते वह असबाब बंधवा रहे थे। उनसे सारा क़िस्सा बयान किया और कहा—अभी चलिए। आपकों बुलाया है।
खां—मामला बहुत टेढ़ा है। बड़ी दौड़-धूप करनी पड़ेगी। क़सम ख़ुदा की, तुम सब के सब गर्दन मार देने के लायक हो। ज़रा-सी देर के लिए मैं टल क्या गया कि सारा खेल ही बिगाड़ दिया।
वाजिद—खां साहब, हमसे तो उड़िए नहीं। कुंअर साहब बौखलाये हुए हैं। दो-चार सौ का वारा-न्यारा है। चलकर सिविल सर्जन को मना कर दीजिए।
खां—चलो, शायद कोई तरकीब सूझ जाये।
दोनों आदमी सिविल सर्जन की तरफ़ चले। वहां मालूम हुआ कि साहब कुंअर साहब के मकान पर गये है। फ़ौरन फिटन घुमा दी, और कुंअर साहब की कोठी पर पहुंचे। देखा तो सर्जन साहब एनेमा लिये हुए कुंअर चाहब की चारपाई के सामने बैठे हुए है।
खाँ—मैं तो हुज़ूर कें बंगले से चला आ रहा हूँ। कुंअर साहब का क्या हाल है?
डाक्टर—पेट मे दर्द है। अभी पिचकारी लगाने से अच्छा हो जायेगा।
कुंअर—हुज़ूर, अब दर्द बिल्कुल नहीं है। मुझे कभी-कभी यह मर्ज हो जाता है और आप ही आप अच्छा हो जाता है।
डाक्टर—ओ, आप डरता है। डरने की कोई बात नहीं है। आप एक मिनट में अच्छा हो जाएगा।
कुंअर—हुज़ूर, मैं बिल्कुल अच्छा हूं। अब कोई शिकायत नहीं है।
डाक्टर—डरने की कोई बात नहीं, यह सब आदमी यहां से हट जाय, हम एक मिनट में अच्छा कर देगा।
खां साहब ने डाक्टर से कान में कहा—हुज़ूर अपनी रात की डबल फीस और गाड़ी का किराया लेकर चले जाएं, इन रईसों के फेर में न पड़ें, यह लोग बारहों महीने इसी तरह बीमार रहते है। एक हफ्ते तक आकर देख लिया कीजिए।
डाक्टर साहब की समझ में यह बात आ गई। कल फिर आने का वादा करके चले गये। लोगों के सिर से बला टली। खां साहब की कारगुजारी की तारीफ़ होने लगी!
कुंअर—खां साहब आप बड़े वक़्त पर काम आये। ज़िन्दगी-भर आपका एहसान मानूंगा।
खां—जनाब, दो सौ चटाने पड़े। कहता था छोटे साहब का हुक्म हैं। मैं बिला पिचकारी लगाये न जाऊंगा। अंग्रेज़ों का हाल तो आप जानते है। बात के पक्के होते है।
कुंअर—यह भी कह दिया न कि छोटे साहब को मेरी बीमारी की इत्तला कर दें और कह दें, वह सफर करने लायक नहीं है।
खां—हां साहब, और रूपये दिये किसलिए, क्या मेरा कोई रिश्तेदार था? मगर छोटे साहब को होगी बड़ी तकलीफ। बेचारे ने आपको बंगले के आसरे पर होटल का इन्तज़ाम भी न किया था। मामला बेढब हुआ।
कुंअर—तो भई, मैं क्या करता, आप ही सोचिए।
खां—यह चाल उल्टी पड़ी। जिस वक़्त काटन साहब यहां आये थे, आपको उनसे मिलना चाहिए था। साफ़ कह देते, आज एक सख़्त ज़रूरत से रुकना पड़ा। लेकिन खैर, मैं साहब के साथ रहुंगा, कोई न कोई इंतजाम हो ही जायगा।
कुंअर— क्या अभी आप जाने का इरादा कर ही रहे है! हलफ से कहता हूं, मैं आपको न जाने दूंगा, यहां न जाने कैसी पडें, मियां वाजिद देखों, आप घर कहला दो, बारह न जायेंगे।
खां—आप अपने साथ मुझे भी डुबाना चाहते है। छोटे साहब आपसे नाराज़ भी हो जाएं तो क्या कर लेंगे।, लेकिन मुझसे नाराज़ हो गये, तो ख़राब ही कर डालेंगे।
कुंअर—जब तक हम ज़िन्दा है भाई साहब, आपको कोई तिरछी नज़र से नहीं देख सकता। जाकर छोटे साहब से कहिए, कुंअर साहब की हालत अच्छी नहीं, मैं अब नहीं जा सकता। इसमें मेरी तरफ़ से भी उनका दिल साफ़ हो जाएगा और आपकी दोस्ती देखकर आपकी और इज़्ज़त करने लगेगा।
खां—अब वह इज़्ज़त करें या न करें, जब आप इतना इसरार कर रहे है तो मैं भी इतना बे-मुरौवत नहीं हूं कि आपको छोड़कर चला जाऊं। यह तो हो ही नहीं सकता। ज़रा देर के लिए घर चला गया, उसका तो इतना तावान देना पड़ा नैनीताल चला जाऊं तो शायद कोई आपको उठा ही ले जाय।
कुंअर—मज़े से दो-चार दिन जल्से देखेंगें, नैनीताल में यह मज़े कहां मिलते। व्यास जी, अब तो यों नहीं बेठा जाता। देखिए, आपके भण्डार में कुछ हैं, दो-चार बोतलें निकालिए, कुछ रंग जमे।

By |2019-04-29T15:33:07+05:30April 29th, 2019|Hindi Stories, Premchand's Other Stories, Stories of Premchand|0 Comments

Leave A Comment